LATEST POSTS

Wednesday, 31 October 2018

धनतेरस पर जरूर करें ये आसान उपाय, रातों-रात हो जाएंगे धनवान

धनतेरस पर जरूर करें ये आसान उपाय, रातों-रात हो जाएंगे धनवान


धनतेरस के उपाय बहुत कारगर होते है। इस बार 7 नवंबर 2018 की दिवाली के तीन दिन पहले यानि 5 नवंबर को धनतेरस का त्यौहार है। देश भर में धनतेरस की त्यौहार की तैयारियां हो जाती हैं। 
कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाये जाने वाले 'धनतेरस' को 'धनवंतरि त्रयोदशी' भी कहा जाता है। धनतेरस पर लोग जमकर खरीददारी करते हैं। इस दिन वस्तुएं, बर्तन और धातुओं की खरीददारी करना शुभ माना जाता है।

धनतेरस पर धन की देवी लक्ष्मी और धन के देवता कुबेर की पूजा का भी बहुत महत्व है। धनतेरस के दिन कुछ आसान उपाय करने से भगवान की कृपा मिलती है। इस दिन आसान से उपाय कर लेने चाहिए...

साबुत धनिया से देवी होंगी खुश

धनतेरस के दिन पांच रुपये का साबुत धनिया खरीदकर मां लक्ष्मी और भगवान धनवंतरी के चरणों में चढ़ाएं। अब भगवान धनवंतरी से मनोकामना मांगे। धनवंतरी से नौकरी के उन्नति धन लाभ मनोकामना मांगे। पूजा के बाद इस धनिया को प्रसाद के रूप में वितरित कर दें। इस उपाय से आपके घर में धन वर्षा होगी।

मां लक्ष्मी का प्रिय भोग है बताशा

धनतेरस पर पांच रुपये का सफेद बताशा खरीदकर माता रानी को भोग लगाएं। बताशा सफेद रंग मां लक्ष्मी को प्रिय है इसके साथ वह सफेद भोग से भी खुश होती हैं और चार गुना कृपा देती हैं। अब मां से मनोकामना मांगे। यह धनतेरस का अचूक उपाय है जिससे कृपा मिलती ही है।

दक्षिण दिशा में जलाएं दीपक

धनतेरस से दीप जलाएं जाते हैं। इस दिन कोरा दिया नहीं जलाया जाता है दीपक में कुछ अनाज डालकर ही जलाया जाता है। इसलिए आप धनतेरस पर उपाय करें। आप धनतेरस पर पांच रूपए का दिपक खरीदें। अब धनतेरस की रात में दक्षिण की ओर मुख करके दीपक जलाएं। दीपक को खाना खाने के बाद जलाएं और बाद में मुड़ कर न देखें। ये टोटका आपको और आपके परिवार को अकाल मृत्यु से बचाता है।

धनतेरस पर लक्ष्मी मां को कुमकुम लगाएं

धनतेरस पर पांच रुपये का कुमकुम लेकर आएं। इस कुमकुम को मां के चरणों में रख दें। आप चाहे तो मां के माथे पर कुमकुम खुद लगाएं। मां के कुमकुम लगाने आप पर धन की वर्षा होगी। आप चाहे तो इस कुमकुम को बाद में भी काम में लाएं। घर से निकलते समय मां को चढ़ाए कुमकुम को लगाकर निकलें।

*************************

Share this:

Post a comment

 
Copyright © 2019 Vrat Aur Tyohar. | All Rights Reserved '>