LATEST POSTS

Monday, 4 February 2019

मां सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप में मनाते हैं बसंत पंचमी

मां सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप में मनाते हैं बसंत पंचमी
मां सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप में मनाते हैं बसंत पंचमी

बसंत पंचमी का त्योहार 10 फ़रवरी को मनाया जाएगा। इस दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है। महिलाएं पीले वस्त्र घारण करती है। कहा जाता है कि बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की उत्पत्ति हुई थी। कहते हैं ब्रह्मा जी ने सृष्टि की उत्पत्ति की लेकिन चारों तरफ मौन छाया रहता था। जीवन था लेकिन उसका संगीत नहीं था। तब ब्रह्मा जी ने विष्णु जी की अनुमति लेकर अपने कमंडल के जल से सरस्वती की उत्पत्ति की। जिससे सृष्टि को स्वर मिले। इसलिए बसंत पंचमी को मां सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप में मनाते हैं।
बसंत के दिनों में पेड़-पौधे भी आपने पुराने पत्ते झड़ा दैते है। वहीं पेड़-पौधे में नए पत्ते आने लगते है। बसंत पंचमी के साथ ही हम सर्दियों के दिन को पीछे छोड़कर बसंत के दिनों में प्रवेश करते हैं। यह दिन सभी तरह के कार्यों के आरंभ के लिए शुभ माना जाता है। इस समय तीर्थों के जल में स्नान का विशेष महत्व है। दूसरा इस समय सूर्य देव उत्तरायण होते हैं। इस दिन कलाकार अपने वाद्य यंत्रों का पूजन करते हैं। कवि, गायक, लेखक, नाटककार सभी इस दिन अपने यंत्रों और सामग्री का पूजन करते हैं। इस दिन कामदेव की पूजा की जाती है। इसी दिन भगवान राम शबरी के आश्रम पहुंचे थे। इस दिन बच्चों को पहला अक्षर लिखना भी सिखाया जाता है। इसे महाकवि सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला" के जन्मदिवस के रुप में भी जाना जाता है।

इस दिन सुबह-सुबह समस्त कार्यों से निवृत्त होकर मां सरस्वती की आराधना करनी चाहिए। इसके बाद दिन के समय स्नान आदि के बाद भगवान गणेश जी का ध्यान करना चाहिए। स्कंद पुराण के अनुसार सफेद फूल, चन्दन, सफेद वस्त्र धारण करके देवी सरस्वती की पूजा करनी चाहिए।

देवी सरस्वती का मंत्र

सरस्वती जी की पूजा के लिए अष्टाक्षर मूल मंत्र "श्रीं ह्रीं सरस्वत्यै स्वाहा" है।

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2019 Vrat Aur Tyohar. | All Rights Reserved '>